अलवर – पवन छाबड़ा / धर्म की रक्षा, भारत की अखंडता के लिए सन् 1705 में श्री गुरु गोविंद सिंह जी व उनके नन्हे 4 साहबजादों सहित सिक्ख संगत ने किस प्रकार अपनी कौम अपने मजहब अपनी मातृभूमि की रक्षा हेतु बलिदान  दे दिया, इसी को केंद्र में रखते हुए पुरुषार्थी समाज अलवर द्वारा 22 दिसबर से 28 दिसम्बर को शहीदी सप्ताह के रूप में मना रही है। सप्ताह के प्रथम दिन रात्रि समाज क़े युवाओं द्वारा रिक्शे वालो , व आश्रित मजदूरों को गर्म टोपी व मफलर पहनाकर नेकी का काम किया. इसी क्रम मे आज़ सप्ताह क़े दूसरे दिन ये युवा रेलवे स्टेशन पहुचे जहा राहगीरो, मुसाफिरों साहिर रिक्शा चालकों को गर्म दूध व बुस्कुट वितरण किया गया

कार्यक्रम में बतौर अतिथि अलवर क़े परिसद व्याख्याता आशीष खटटर जी रहे शहीदी सप्ताह के दौरान प्रतिदिन विभिन्न तरह के आयोजन किये जायेंगे कार्यक्रम संयोजक सौरभ कालरा ने बताया कि सप्ताह क़े तीसरे दिवस कल रात्रि रेलवे स्टेशन,बिजली घर, बस स्टैंड पहुचकर निराश्रितों व असहायों को चाय वितरण किया जाएगा इसी के साथ पूरे सप्ताह विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर शहादत की गाथा दुनिया को सुनाई जाएगी आज के कार्यक्रम में सौरभ कालरा,विकास जासूजा,प्रियांश अरोड़ा,राजू धवन,सनमीत सिंह रवि लाम्बा,यश तलवार,हितेश ठाकुर, अमित लोटा,उपस्थित रहे