स्थाई नियुक्ति की मांग को लेकर सफाई कर्मचारियों का नगर पालिका में हल्ला बोल, विरोध प्रदर्शन कर जताया रोष

 

 

 

 

 

 

रोहतक की एक कंपनी को मिला नगर पालिका सफाई का ठेका अधिशासी अधिकारी की समझाइश पर 1 घंटे बाद शांत हुए सफाई कर्मचारी

 

मनोहरपुर ,,,क्षेत्र में सफाई कार्य नगर पालिका प्रशासन के लिए जी का जंजाल बना हुआ है  नगर पालिका प्रशासन ने अच्छी सफाई व्यवस्था के मद्देनजर रखते हुए सफाई कार्य का ठेका टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से जारी कर दिया है । ठेकेदार सोमवार से सफाई कार्य शुरू करने में था। किंतु इससे पूर्व तत्कालीन ग्राम पंचायत व मनोहरपुर नगरपालिका में  सफाई कार्य कर रहे अस्थाई सफाई कर्मचारियों ने  स्थाई करने की मांग को लेकर नगर पालिका के बाहर हल्ला बोल प्रदर्शन किया इस दौरान सफाई कार्मिकों ने नगर पालिका प्रशासन के विरुद्ध जोरदार नारेबाजी कर रोष  जताया। मौके पर पहुंचे अधिशासी अधिकारी ने सफाईकर्मीयों  से वार्ता कर करीब 1 घंटे बाद में विरोध प्रदर्शन  को शांत कराया। इसके बाद में कार्मिक काम पर लौट आए मनोहरपुर की सफाई व्यवस्था के लिए 65 सफाई कार्मिक लगाए गए हैं जानकारी के अनुसार नगरपालिका ने सफाई का ठेका रोहतक की एक कंपनी श्री बालाजी केयर टेकर को दे दिया। जिसकी जानकारी मिलने तत्कालीन ग्राम पंचायत के समय से सफाई  कार्य कर रहे  करीब 30 सफाई कर्मचारी सागर, सत्यनारायण,अजय, विकास, रमेश, मंजू, माया, मोना, मीरा, संतोष, सहित कई कर्मचारी नगर पालिका परिसर में पहुंचे और अपने स्थाईकरण की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया कर्मचारीयों ने बताया कि वे मनोहरपुर में कई वर्षों से सफाई का कार्य कर रहे हैं पूर्व में पंचायत थी जब भी वह कार्यरत थे तब से ही उनके स्थायीकरण की मांग की जा रही है किंतु उन्हें स्थाई करने की दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है उन्होंने मांग की कि उनको स्थाई करने के बाद नगर पालिका को टेंडर प्रक्रिया अपनानी चाहिए थी करीब एक घंटे विरोध प्रदर्शन करने के बाद अधिशासी अधिकारी ऋषि देव ओला, नगरपालिका के कनिष्ठ अभियंता पूरणमल कुमावत, पार्षद किशन जिंदल, प्रीतम सोनी सहित लोगों ने सफाई कर्मचारियों से समझाइश की ईओ ने बताया कि सफाई कर्मचारियों को स्थाई करना उनके हाथ में नहीं है स्थाई करने के लिए राज्य सरकार की ओर से नियुक्तियां जारी होती है जिसके बाद ही कर्मचारियों को स्थाई किया जा सकता है ठेकेदार ने बताया कि पूर्व में  सफाई कार्य में कार्यरत कर्मचारियों को 200 रुपए प्रतिदिन मानदेय दिया जा रहा था जो ठेकेदार की और से बढ़ाकर  करीब 300 रुपए दिया जाएगा कर्मचारियों को कार्य पर लगाने के संबंध में स्थानीय कर्मचारियों को प्राथमिकता दी जाएगी इसके बाद  सफाईकर्मी शांत हो गए और अपने काम पर लोट गए इनका कहना है कर्मचारी बेकार में विरोध कर रहे थे स्थाई करने का अधिकार उनके पास नहीं है कर्मचारियों को पूर्व में जो वेतन मिलता था उससे अधिक वेतन ठेकेदार की और से दिया जाएगा ऋषिदेव ओला, अधिशाषी अधिकारी मनोहरपुर

 

About Mohammad naim

Check Also

महापौर सौम्या गुर्जर ने किया रैन बसेरों का निरीक्षण, व्यवस्थाओं की लिया जायजा

              जयपुर,,, ग्रेटर निगम महापौर सौम्या गुर्जर ने मंगलवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES