बकाया भुगतान को लेकर टोल प्लाजा पर कार्यरत तत्कालीन कार्मिकों ने तत्कालीन टोल प्रबंधक व एनएचएआई के विरुद्ध अनिश्चित धरना किया शुरू

 

 

स्वीटी अग्रवाल (संवाददाता मनोहरपुर)

 

 

वेतन  मिलने के बाद ही होगा  धरना समाप्त

 

मनोहरपुर ,,टोल प्लाजा मनोहरपुर पर 3 महीने से कुछ समय पहले तक कार्यरत कार्मिकों ने तत्कालिन टोल प्रबंधक एवं एनएचएआई विभाग के विरुद्ध  बकाया वेतन भुगतान करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना प्रारंभ किया है कार्मिकों ने इससे पहले तीन दिवस  पूर्व सोमवार  को सांकेतिक धरना प्रदर्शन कर बकाया भुगतान दिलवाने की मांग को लेकर मनोहरपुर थाना अधिकारी मनीष शर्मा, शाहपुरा उपाधीक्षक सुरेन्द्र कृष्णिया, शाहपुरा तहसीलदार महेश ओला को ज्ञापन सौंपा था किंतु 3 दिवस  में  बकाया भुगतान नहीं होने के बाद  दी गई चेतावनी का समय पूरा होने पर टोल प्लाजा पर अनिश्चितकालीन धरने को प्रारंभ किया है इस धरने को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता संपूर्णानंद शर्मा के नेतृत्व में  तत्कालीन टोल कर्मियों हंसराज घांघल, सूर्यकांत गुर्जर तौसीफ अहमद ,योगेंद्र सिंह, रामसहाय जाट  व कैलाश यादव का एक दल गठित किया है जो कार्मिकों की ओर से प्रशासन से वार्ता करेगी। कार्मिकों ने बताया कि करीब  100 कार्मिकों के कई लाखों रुपए बकाया हैं। कार्मिकों में  तत्कालीन पीसीपीएल टोल प्रबंध गजेंद्र शर्मा, मेक्रोन कंपनी के रामनिवास जाट सहित  एनएचएआई  के अधिकारियों के खिलाफ वेतन भुगतान नहीं करके कार्मिकों के हितों पर कुठाराघात करने का आरोप लगाया हैं यह मानवाधिकारों के हनन की श्रेणी में आता हैं कार्मिकों का 4 माह 3 दिन का मानदेय भुगतान नहीं हुआ है इसके चलते तत्कालीन  टोल प्लाजा कार्मिकों में टोल प्रबंधक व एनएचएआई के अधिकारियों के खिलाफ एक गहरा रोष व्याप्त है। जिसके चलते कार्मिकों की ओर से अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। जो मानदेय भुगतान  होने तक अनवरत जारी रहेगा । धरने में बड़ी संख्या में कार्मिक उपस्थित रहे

About Mohammad naim

एडिटर इन चीफ :- मोहम्मद नईम वन इंडिया न्यूज प्लस राजस्थान मोबाईल न. 7665865807-9024016743

Check Also

How To Write Your Essay – The Process of Researching Your Essay To Your Degree

It can be very expensive if you need to hire a writer to write your …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES