शिकारपुरा के ग्रामीण पानी के अभाव में पशुओं को बेचने पर मजबूर शिकारपुरा में पेयजल समस्या को लेकर ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शन

मनोहरपुर ग्राम पंचायत के गांव शिकारपुरा में पानी की समस्या के चलते ग्रामीण अपने मवेशियों को बेचने पर मजबूर है। पानी की समस्या से नाराज ग्रामीणों ने शुक्रवार को जमकर विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने जलदाय विभाग के कनिष्ठ अभियंता रामवतार सिसोदिया को अवगत करवाकर पानी की सुचारू करवाने की मांग की है।जानाकरी के अनुसार शिकारपूरा 230 लोग रहते है जिनके पीने के पानी की कोई व्यस्वथा नही है। पूर्व में यहाँ एक बोरिग से पानी की सप्लाई की जाती थी लेकिन उस बोरिग में भी पानी कम होने से ग्रामीणों के पास पर्याप्त पानी नही मिलने से खासे परेशान है।पानी की समस्या से परेशान ग्रामीण सरदार मल, पांचू राम, जगदीश, रिछपाल, सूर्यकांत गुर्जर, सूरजी, बन्ना, राजू, सुशीला, सुमन, धापा, कविता, सुनीता सहित कई लोगो ने एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन किया व जलदाय विभाग के कनिष्ठ अभियंता को अवगत कराकर पानी की समस्या का समाधान कराने की मांग की।सूर्यकांत गुर्जर ने बताया कि पानी के अभाव में मवेशियों को भी पीने का पानी नही मिलने से बेचने पर मजबूर हो रहे है मवेशियो को बेचने पर मजबूर…
ग्रामीण उमराव दास महाराज, रिछपाल ,पांचू राम ,सूर्यकांत गुर्जर ने बताया कि पीने के पानी के अभाव के चलते मवेशियों को भी पीने का पानी भी समय पर नही मिल रहा है जिससे मजबूरन मवेशियों को बेचने पर मजबूर हो रहे है धरने की चेतावनी…
ग्रामीणों ने जल्द ही पानी की समस्या का समाधान नही होने पर पंचायत परिसर एवं जलदाय विभाग के कार्यालय पर धरना देने की चेतावनी दी है 300-400 रुपये में डलवाये रहे टैंकर ग्रामीण रिछपाल गुर्जर ने बताया कि पीने के पानी के अभाव में मजबूरन निजी टेंकरो से पानी मंगवाया जा रहा है जिसके 300-400 रुपये देकर अपने आप को ग्रामीण ठगा सा महसूस कर रहे है।

About Mohammad naim

एडिटर इन चीफ :- मोहम्मद नईम वन इंडिया न्यूज प्लस राजस्थान मोबाईल न. 7665865807-9024016743

Check Also

सारवान मोहल्ले में पेयजल समस्या गहराई परेशान महिलाओं ने जलदाय विभाग के कर्मचारियों को सुनाई खरी-खोटी

स्वीटी अग्रवाल (संवाददाता मनोहरपुर) मनोहरपुर.कस्बे के सारवान मोहल्ला में पिछले कई दिनों से पानी की …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES