सरिता सोनी ( क्राइम रिपोर्टर)

जयपुर,, नाहरगढ़ थाना के क्षेत्र नाहरगढ़ रोड, लाल हाथियों के मंदिर के सामने चांदपोल बाजार जयपुर स्थित मकान मे 30-40 वर्षी से कब्जेधारी चार परिवारों के लोग रहते थे मनु सिहं की पत्नी सोनिया सिंह व सरबजीत सिंह ने बताया की हमारा वर्षो पुराना कब्जेशुदा मकान नम्बर 2089, दुसरा चौराहा,नाहरगढ रोड, लाल हाथियों के मन्दिर के सामने, चांदपोल बाजार, जयपुर, राज में स्थित है हम लोग उक्त मकान में परिवार सहित लगभग 40 वर्षो से स्थाईरूप से निवास कर रहे है हमारे उक्त कमरे वाले मकान में रहने वाले अन्य कब्जाधारी पप्पू उर्फ ओमप्रकाश व राजेन्द्र व घनश्याम व उनके सहयोगियो द्वारा मारपीट करने, लडाई-झगडा करने, नल व बिजली का कनेक्शन काटने तथा नशेडियो व अपराधियो को उक्त मकान में बुलाकर हमसे लडाई-झगडा करवाने आदि से तंग आकर हम आज से लगभग 4 माह पूर्व अपने बीबी बच्चो के साथ दुसरे किराये के मकान में चला गया थे तथा उक्त कमरे में मनु सिंह पिता भीमसिंह जी रहते थे जिन्हें मनु सिंह सुबह-शाम खाना देकर जाया करता था लगभग एक माह पूर्व उक्त लोगो के अत्याचारो से पीडित होकर मनु सिंह अपने पिताजी को भी अपने साथ ले गया तथा आपने रोजमर्रा के जीवन में काम आने वाले सामान से पृथक अन्य सम्पूर्ण सामान को हमारे उक्त कमरो में रखकर ताला लगाकर किराया पर चलेंगे या थे मनु सिंह आपनी पत्नी सोनिया सिंह को घर संभालने दिनांक 14.06.2022 को समय लगभग 4:00 बजे भेजा सोनिया सिंह हमारे उक्त मकान को संभालने गई तो उसने देखा कि मकान नम्बर 2089 में कब्जेशुदा मकान का दरवाजा तोड दिया तथा अगल-बगल की दीवारे तोड दी सरबजीत सिंह के कमरे का ताला टुटा हुआ था और दोनो कमरो मे रखा सामान भी बिखरा हुआ पडा था तथा कमरे के बाहर शराब व बीयर की खाली बोतले पड़ी थी मैंने आस-पडौस में पुछा कि ताला किसने तोडा है और चोरी किसने की है तो किसी ने भी कोई जवाब नहीं दिया तो मैने नाहरगढ़ थाने मे मैने मेरे पडौसी पप्पू उर्फ ओमप्रकाश व घनश्याम व उनके सहयोगी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की मगर थाने की तरफ से अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई हमने हमारे पडौसी पप्पू उर्फ ओमप्रकाश व घनश्याम खिलाफ हमसे जबरन मकान खाली करवाने की धमकी देने पर मनु सिंह व सरबजीत सिंह ने अलग अलग दो सिविल दावा स्थाई निषेधाज्ञा एवं अस्थाई निषेधाज्ञा का पेश किया हुआ है जो माननीय विचारण न्यायालय महानगर मजिस्ट्रेट जयपुर महानगर जयपुर द्वितीय के समक्ष विचाराधीन है तथा मकान को बिना नगर निगम की परमिशन से तोड-फोड कर मकान को ध्वस्त कर रहे है इसकी भी जानकारी हमने हैरिटेज नगर निगम किशनपोल जोन व विजिलेंस को भी लिखित में शिकायत दी है